World of Education Global Organization

इस्लाम में वेलेन्टाइन डे क्या हम मना सकते है?

3 years ago | islamic

वेलेन्टाइन डे हम मना सकते है.... ?


इस्लाम में वेलेन्टाइन डे क्या हम मना सकते है?

Image Source


आमदम बर सरे मतलब के तहत अब सुवाल चुकी वेलेन्टाइन डे के बारे में है इसलिये खुसुसंन सबसे पहले वेलेन्टाइन डे का तारीखी पस मंज़र और इन दिन होने वाली खुराफात को बयान किया जाता है ताकि मुसलमानो पर वाज़ेह हो की इन गुनाहो से भरपूर दिन की हक़ीक़त क्या है।
चुनान्चे कहा जाता है की एक पादरी जिस का नाम वेलेन्टाइन था तीसरी सदी ईस्वी में रूमी बादशाह क्लाडेस सानी के ज़ेरे हुक़ूमत रहता था
किसी ना फ़रमानी की बिना पर बादशाह ने पादरी को जेल में डाल दिया
पादरी और जेलर की लड़की के माबैन इश्क़ हो गया हत्ता की लड़की ने इस इश्क़ में अपना मज़हब छोड़ कर पादरी का मज़हब नसरानीययत क़ुबूल कर लिया।
अब लड़की रोज़ाना एक सुर्ख गुलाब ले कर पादरी से मिलने आती थी
बादशाह को जब इन बातो का इल्म हुआ तो उसने पादरी को फ़ासी देने का हुक्म सादिर कर दिया
जब पादरी को इस बात का इल्म हुआ तो उसने अपने आखरी लम्हात अपनी माशुका के साथ गुज़ारने का इरादा किया और इस के लिये एक कार्ड भेजा जिस पर ये लिखा था "मुख्लिस वेलेन्टाइन की तरफ से"
बिल आखिर 14 फरवरी को उस पादरी को फ़ासी दे दी गई। इसके बाद से हर 14 फ़रवरी को ये महब्बत का दिन उस पादरी के नाम वेलेन्टाइन डे के तौर पर मनाया जाता है। 


इस्लाम में वेलेन्टाइन डे क्या हम मना सकते है?📕 वेलेन्टाइन डे क़ुरआनो हदिष की रौशनी में 13-14

Recommended
Please Like and Share...