World of Education Global Organization

हाथी की रस्सी Hindi Motivational Kahani

3 years ago | 3 years ago | motivation

हाथी की रस्सी Hindi Motivational Kahani

एक बार एक आदमी सर्कस देखने गया, वहां सभी प्रकार के जानवरो को पिंजरों में रखा गया था। जब वह हाथियों के बाड़े से गुजरा तो वह अचानक रुक गया और बहुत ही आश्चर्य में पड़ गया, वह सोचने लगा की इतने बड़े और शक्तिशाली जानवर को ना तो किसी पिंजरे और न ही किसी ज़ज़ीर से बल्कि, सिर्फ एक कमज़ोर, छोटी रस्सी से बांधकर रखा गया है. उसने सोचा की अगर चाहे तो यह हाथी कभी भी अपने पैर में बंधी इस कमज़ोर रस्सी को तोड़कर आज़ाद हो सकता है, लेकिन यह हाथी ऐसा कभी नहीं करता।

उसने पास ही एक महावत ( हाथी पालने वाला ) को देखा, और उससे पूछा
” यह शक्तिशाली हाथी इतनी कमज़ोर रस्सी से क्यों बंधा है और कभी भी आज़ाद होने की कोशिश क्यों नहीं करता ?

महावत ने कहा ” जब ये हाथी छोटे और कमज़ोर थे तब हम इन्हे इसी आकर की रस्सी से बांधकर रखते थे, तब ये हाथी कमज़ोर थे और इस रस्सी को  नहीं तोड़ पाते थे, धीरे धीरे ये बढ़े होते गए तब भी ये हाथी इस बात को विश्वास करने के आदि हो गए की वे इस रस्सी को नहीं तोड़ सकतें हैं।
अब भी वे यही विश्वास करतें हैं की ये रस्सी इनसे नहीं टूटेगी इसलिए ये कभी रस्सी तोड़कर आज़ाद होने का प्रयास नहीं करते।”

यह उत्तर सुनकर वह व्यक्ति आश्चर्य से सोचने लगा की ये जानवर जब चाहें तब अपने बंधन से आज़ाद हो सकतें हैं लेकिन क्यों की वे एसा विश्वास करतें हैं की वे ऐसा नहीं कर सकते इसलिए शक्तिशाली होने के बावजूद भी गुलामी की ज़ंज़ीर में जकड़े रहतें हैं।

इन्ही हाथियों की तरह हम में से कितने लोग ऐसे हैं जो यह विश्वास करतें हैं की हम कोई काम नहीं कर सकते सिर्फ इसलिए की हम उसे पहली बार करते हुए असफल हो गए थे।
किसी काम को करते हुए असफल हो जाना सामान्य बात है, नाकामी, सीखने की प्रकिर्या का एक हिस्सा है, हमें अपने विश्वास को बनाये रख जीवन में संघर्ष करते रहना चाहिए।


Moral of the Story

Check and update your beliefs
Failure is part of learning; we should never give up the struggle in life.

Recommended
Please Like and Share...