World of Education Global Organization

Child Development and Pedagogy Question and answer in hindi part 5

11 months ago | gknowledge

Child Development and Pedagogy Question and answer in hindi part 5


बालक के व्‍यक्तित्‍व के सर्वांगीण विकास के लिए यह आवश्‍यक है कि उसके .............. की जानकारी शिक्षक को हो।
व्‍यवहार की ।


बच्‍चे फिल्‍मों में दिखाए गए हिंसात्‍मक व्‍यवहार को सीख सकते है। यह निष्‍कर्ष किस मनोवैज्ञानिक द्वारा किए गए कार्य पर आधारित हो सकता है।
एल्‍बर्ट बंडूरा ।


सामाजीकरण का अर्थ क्‍या है।
समाज में समायोजित होना ।


सबसे अधिक गहन और जटिल सामाजीकरण कौन सी अवस्‍था में होता है।
किशोरावस्‍था के दौरान ।


अपनी कक्षा के बच्‍चों में समाजीकरण की प्र‍क्रिया को तेज करने के लिए शिक्षक को अपना बर्ताव ................. रखना चाहिए।
स्‍नेह और सहानुभूतिपूर्ण ।


समाजीकरण की प्रक्रिया में अनुकरण को उपयोगी तथा विकासात्‍मक बनाने के लिए आवश्‍यक तत्‍व कौन से है।
परिवार एवं पडोस ।


मानसिक विकास की औपचारिक संक्रियात्‍मक अवस्‍था की मुख्‍य विशेषता कौन सी है।
आमूर्त चिन्‍तन ।


कोहलबर्ग के अनुसार सही और गलत के प्रश्‍न के बारे में निर्णय लेने में शामिल चिन्‍तन प्रक्रिया को कहा जाता है।
नैतिक तर्कणा ।


पियाजे के अनुसार संज्ञानात्‍मक विकास के किस चरण पर बच्‍चा वस्‍तु स्‍थायित्‍व को प्रदर्शित करता है।
मूर्त संक्रियात्‍मक अवस्‍था ।


वह स्‍तर जिसमें बच्‍चा किसी वस्‍तु एवं घटना के बारे में तार्किक रूप से सोचना शुरू करता है कहा जाता है।
पूर्व क्रियात्‍मक अवस्‍था ।


संवेदी गत्यात्मक अवस्था को और किस नाम से जाना जाता हैा
इंद्रीयजन ज्ञान की अवस्था ।


अधिगम अन्तरण से क्या् तात्पर्य है।
किसी पूर्व ज्ञान के आधार पर नये ज्ञान को सीखना ही अधिगम अन्तरण कहलाता है।
उदा. –
साईकल चलाने वाला व्यक्ति स्कूटर चलाना जल्दी सीख जाता है।


अधिगम अन्तरण कितने प्रकार के होते है।
अधिगम अन्तरण तीन प्रकार के होते है।
1. धनात्मणक अन्तकरण
2. शून्यम अन्ततरण
3. ऋणात्मणक अन्तकरण


धनात्मक अन्तरण कितने प्रकार का होता है।
धनात्मनक अन्तरण 3 प्रकार का होता है।
1. क्षैतिज समान्तर
2. उर्ध्वज
3. द्विपार्शिवक


गणित सम्बन्‍धी विकार को क्या कहते है।
डिस्कैलकुलिया ।


पढने सम्बन्‍धी विकार को क्या कहते है।
डिस्लैक्सिया ।


लिखने सम्बन्धी विकार को क्या कहते है।
डिस्ग्राफिया ।


लिखना , पढना और बोलने सम्बन्धी विकारा को क्या कहते है ।
डिस्प्रैक्सिया ।


अवधान सम्बन्धी विकार को क्या कहते है ।
ADHD ।


विशिष्ट बालक कौन होते है।
वे बालक जो सामान्य बालको से हटकर होते है। इन्हें एक नया शब्द दिया गया है। ‘’ विभिन्न योग्यता रखने वाले बालक ‘’


अधिगम की प्रक्रिया पूर्ण कब होती है।
जब व्‍यवहार में स्‍थायी परिवर्तन हो जाए।


मनोविज्ञान का जनक किसे कहा जाता है।
सिंग्‍मण्‍ड फ्रायड को


अंधों की लिपि के जनक किसे कहा जाता है।
लुई ब्रेल


अंधों के लिए लुई ब्रेल ने कौनसी लिपि का प्रतिपादन किया।
ब्रेल लिपि


नर्सरी पद्धति के जनक किसे कहा जात है।
मारिया मांन्‍टेसरी


L.K.G.व U.K.G. पद्धति के जनक है।
फ्रोबेल


जीनपियाजे कहा के मनोवैज्ञानिक थे।
स्विटजरलैण्‍ड के


जीन पियाजे किस विचारधारा के समर्थक थे।
संज्ञानात्‍मक


स्‍कीमा सिद्धांत का जनक किसे माना गया है।
जीन पियाजे


जीनपियाजे ने अपना प्रयोग किस पर किया था।
दो पुत्रियों एवं पुत्र पर


बाल अपराध बनने के कारण क्या क्या है।
1. आनुवांशिंकता
2. व्याक्तिगत आवश्यकताओ की पूर्ति न होना
3. शारीरिक दोष – ऐसे बालक हीन भावना से ग्रसित होने के कारण अपराधी बन जाते है।
4. घर का वातावरण अशान्त होना।
5. कुसंगती के कारण
6. दादा दादी का अधिक लाड प्यार
7. स्तर हीन मनोरंजन
8. माता पिता का गरीब होना
9. पक्षपात पूर्ण व्यवहार
10. माता पिता का तलाक आदि


बाल अपराधियों के उपचार क्या क्या है।
1. मनोवैज्ञानिक विधि
2. समाजशास्त्रीय विधि
3. वैधानिक विधि


समस्याग्रस्त बालक कौन से होते है।
वे बालक जिनके व्यवहार में ऐसी कोई असामान्य बात होती हैा जिसके कारण वे समस्याग्रस्त बालक बन जाते है। जैसे –
1. कक्षा में देर से आना
2. स्कूाल से भाग जाना
3. कक्षा में अधिक बाते करना
4. अधिक क्रियाशीलता होना
5. ग्रहकार्य करके न लाना
6. कक्षा में पढाई में ध्याान न लगाना


समस्याग्रस्तं बालकों की समस्या शिक्षक द्वारा कैसे दूर की जा सकती हैा
1. शिक्षक को चाहिए कि ऐसे बालकों को अलग-अलग बिठायें और सबसे आगे विठायें।
2. शिक्षक को स्वयं बालक की समस्या को कारणों का पता लगाना चाहिए और दूर करना चाहिए।
3. शिक्षकों को ऐसे बालकों के घर जाकर उनकी समस्या का पता लगाना चाहिए।


गिलफोर्ड ने सृजनशीलता के 4 तत्व कौन से बताये है।
1. लोचशीलता
2. मौलिकता
3. अपसारीशीलता
4. केन्द्रा विमुख


वैज्ञानिक गुड ने सृजनशीलता के कितने तत्व दिये।
वैज्ञानिक गुड ने सृजनशीलता के पॉच तत्व दिये जो निम्न् है।
1. मौलिकता
2. अनुकूलता
3. विचारात्मलक
4. विचारों का सहचर्य
5. लोथ शील और विविध


सृजनात्मकता के प्रमुख तत्व कौन से है।
1. मौलिकता
2. नवीनता
3. लोचशीलता
4. विस्तातरण करेन की क्षमता
5. विभिन्नाता


सृजनशील बालकों की विशेषताऍ क्या क्या है।
1. सृजनशील बालक जिज्ञासु प्रवर्ति के होते है।
2. सृजनशील बालकों में उच्य् महत्वकांक्षा वाले होते है।
3. सृजनशील बालकों के विचार व्या‍पक होते है।
4. सृजनशील बालकों मे संवेदन शीलता अधिक पाई जाती है।
5. सृजनशील बालकों मे एकाग्रता पाई जाती है।


मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है यह किसने कहा।
अरस्तू ने !


बालक के सामाजीकरण की पहली पाठशाला कौन सी होती है।
पहली - घर एवं परिवार
दूसरी - खेल का मैदान
तीसरी - स्कूल

Recommended
Please Like and Share...