World of Education Global Organization
View MCQ Questions in Both or English || Hindi Language

मां ICU में गिन रही थी आखिरी सांसें,शाहरुख पास बैठे दे रहे थे तकलीफ,वजह खुद शाहरुख ने बताई

2 years ago | afrex

New Delhi: Shahrukh Khan नाम तो सुना ही होगा, जो बॉलीवुड के किंग खान है उनका जन्म  2 नवंबर 1965 को दिल्ली में हुआ था वो अपना इस साल बर्थ डे बना कर  53वा  साल के हो चुके हैं। । 16 साल की उम्र में Shahrukh ने अपने पिता को खो दिया था। इसके 10 साल बाद Shahrukh के सिर से मां का भी साया उठ चुका था। Shahrukh ने Anupam Kher के शो में बताया कि मां के आखिरी वक्त में वे उन्हें तकलीफ दे रहे थे। हालांकि, इसकी जो वजह उन्होंने बताई थी, वह बहुत ही इमोशनल थी।

मां ICU में गिन रही थी आखिरी सांसें,शाहरुख पास बैठे दे रहे थे तकलीफ,वजह खुद शाहरुख ने बताई

शाहरुख खान के अनुसार, जिस दिन मां की जान गई थी, उस दिन वे दिल्ली के बत्रा हॉस्पिटल के पार्किंग लॉट में दुआ कर रहे थे और मां ICU में भर्ती थीं। शाहरुख उस वक्त मां से मिलने नहीं जा रहे थे, क्योंकि उन्हें किसी ने बताया था कि अगर वे उनकी अच्छी सेहत के लिए प्रर्थाना करते रहेंगे तो मां को कुछ नहीं होगा। शाहरुख के मुताबिक, उन्हें 100 बार दुआ पढ़ने को कहा गया था, लेकिन वे 100 से भी कहीं ज्यादा बार दुआ मांग चुके थे। तभी अचानक डॉक्टर आया और बोला कि वे आईसीयू में जा सकते हैं, जिसका मतलब यह था कि मां की अंतिम घड़ी आ चुकी थी। शाहरुख बोले, “मैं जाना नहीं चाहता था, क्योंकि मुझे लग रहा था कि मैं दुआ पढ़ता रहूंगा तो मां बच जाएंगी। लेकिन फिर बहन और बाकी लोगों ने कहा कि जाना जरूरी है, तो जाना पड़ा।”


मां ICU में गिन रही थी आखिरी सांसें,शाहरुख पास बैठे दे रहे थे तकलीफ,वजह खुद शाहरुख ने बताई

शाहरुख आगे कहते हैं, “मेरा एक यकीन है कि इंसान तब दुनिया छोड़ता है, जब वह हर चीज से संतुष्ट होता है। क्योंकि अगर ऐसा न हो तो मां-बाप बच्चों को छोड़कर नहीं जा सकते। जब मेरी मां आईसीयू में थीं तो मैं उनके पास बैठ गया और मैंने एक गलत बात की। मैं उन्हें दुख पहुंचाता रहा। मैंने सोचा अगर मैं इन्हें सेटिस्फाई नहीं होने दूंगा तो वे जाएंगी नहीं। तो मैं उनके पास बैठकर ऐसे बातें करता रहा कि देखो अगर आप चली जाएंगी तो मैं अपनी बहन का ख्याल नहीं रखूंगा। मैं पढूंगा नहीं। मैं काम नहीं करूंगा। ऐसी ही मूर्खता भरी बातें करता रहा। ताकि उनको तकलीफ पहुंचे कि यार मैं अभी सेटिस्फाई नहीं हूं…तो मैं जाऊंगी नहीं। लेकिन शायद ये बचपन के यकीन होते हैं। उन्हें जाना ही था। शायद वो सेटिस्फाई थीं कि मैं अपनी बहन का ख्याल रखूंगा। जिंदगी में ठीकठाक कर लूंगा।”

इस इंटरव्यू के दौरान

शाहरुख ने पिता के साथ की आखिरी याद भी बताई थी। शाहरुख के मुताबिक, पिता को कैंसर था। उनका इलाज चल रहा था और जब लगा कि वे ठीक हो गए तो उन्हें घर लाया गया। घर आने के बाद पिता ने वनीला आइसक्रीम मांगी और उन्होंने खुद उन्हें वह आइसक्रीम दी। शाहरुख बोले, “18 अक्टूबर की रात थी, मैं सो रहा था। मां ने आकर जगाया और कहा कि पापा हॉस्पिटल में हैं। मेरा लास्ट विजुअल यह है कि मैंने उनके पैर देखे थे, जो बहुत ठन्डे थे। मैंने उनका चेहरा नहीं देखा। क्योंकि मुझे बहुत दुख हो रहा था। मेरी आखिरी याद उनके साथ वनीला आइसक्रीम वाली ही है।”

मां ICU में गिन रही थी आखिरी सांसें,शाहरुख पास बैठे दे रहे थे तकलीफ,वजह खुद शाहरुख ने बताई
Recommended
Please Like and Share...