World of Education Global Organization

Paani Aur Nazasat Ki Paheliya Sawal Jawab Part 2

2 months ago | islamic

Paani Aur Nazasat Ki Paheliya Sawal Jawab Part 2

पानी और नजासत की पहेलियां 2


इससे पहले क़िस्त 7, के मैसेज में (दो दरदा) ग़लती से टाइप हो गया जबके ये दह दरदह है यानी 10 हाथ लंबा 10 हाथ चोड़ा और गहराई की कोई मिक़दार नहींं

6️⃣ सवाल----- एक हौज़ दह दरदह ( यानी 10, हाथ लंबा 10 हाथ चौड़ा और गहराई की कोई मिक़दार नहीं) है और उसमें नजासत का रंग, बू, या मज़ा नहीं है मगर उसका पानी नापाक है इसकी सूरत क्या है,

6️⃣ जवाब----- छोटे हौज़ का पानी जो किसी नजासत के पड़ने से नापाक हो गया था उसे निकाल कर ऐसे बड़े हौज़ में कर दिया गया जिसमें पानी नहीं था तो इस सूरत में वह दह दरदह हौज़ नापाक है अगरचे उसमें नजासत का असर ना हो,

📚फ़तावा रज़वियह जिल्द 1 सफ़ह 343,

और जो हौज़ के ऊपर से दह दरदह और नीचे से उससे कम है इस सूरत में पानी जब्के दह दरदह से कम में हो अगर उस वक़्त नजिस हो जाए और फिर फैल कर दह दरदह में हो जाए तो ऐसे दह दरदह हौज़ का पानी भी नजिस रहेगा अगरचे उसमें नजासत का रंग, बू, या मज़ा न पाया जाए,

📚 फ़तावा आलमगीरी, जिल्द 1 सफ़ह 18)

7️⃣ सवाल----- थोड़ा पानी है उससे वुज़ू करे फिर वही पानी वुज़ू के क़ाबिल रहे इसकी तदबीर क्या है,

7️⃣ जवाब----- इतनी चौड़ी नाली के जिसमें वुज़ू हो सकता है उसके नीचे की जानिब एक बर्तन रख दे और पानी ऊंचे की जानिब से डलवाए जब पानी नाली में जारी हो तो उसमें वुज़ू करे इस तदबीर से जो पानी बर्तन में जमा होगा वह फिर वुज़ू के क़ाबिल रहेगा,

📚 फ़तावा रज़वियह जिल्द 1 सफ़ह 358,

8️⃣ सवाल----- बे वुज़ू ने बड़े बर्तन या छोटे हौज़ में अपना हाथ बग़ैर धोए डाल दिया और पानी मुस्तअमल ना हुआ इसकी सूरत क्या है,

8️⃣ जवाब----- जब्के छोटा बर्तन वगैरह ना हो के जिस से पानी निकाला जा सके तो बदर्जा ए मजबूरी बड़े बर्तन या छोटे हौज़ में बे वुज़ू ने अपना हाथ बक़दरे ज़रूरत बग़ैर धोए डाल दिया तो पानी मुस्तअमल ना होगा,

📚 फ़तावा आलमगीरी जिल्द 1 मतबूआ मिसर, सफ़ह 21)

9️⃣ सवाल----- नमाज़ पढ़ने से पहले आज़ाए वुज़ू (जिस्म के वो हिस्से जो वुज़ू में धोए जाते हैं) को धोया और पानी मुस्तअमल ना हुआ इसकी सूरत क्या है,

9️⃣ जवाब----- बा वुज़ू (जिसका वुज़ू हो) शख़्स ने सिर्फ़ ठंडक हासिल करने की नियत से आज़ा ए वुज़ू को धोया तो इस सूरत में पानी मुस्तअमल ना हुआ,

📚 फ़तावा रज़वियह जिल्द 1, सफ़ह 244)

🔟 सवाल----- एक चूहा कुएं में गिर कर मर जाए तो कुल पानी नहीं निकालना पड़ेगा मगर वह कौन सी सूरत है के जिंदा निकल आया और कुल पानी निकालना पड़ेगा,

🔟 जवाब----- जख़्मी चूहा बिल्ली से छूटकर कुएं में गिरा तो अगरचे जिंदा निकल आया कुल पानी निकालना पड़ेगा,
لان الدم يرج من جرها فينزح الكل،
बल्के जख़्मी ना हो मगर बिल्ली से भागकर कुएं में गिरा हो तो इस सूरत में भी कुल पानी निकालना पड़ेगा,

📚 अल अश्बाह वन्नज़ाइर, सफ़ह 394)

Recommended
Please Like and Share...